RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 1:12 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 1:12 AM

मदिरा प्रेमियों को नही मौत का डर, जोखिमभरे गड्ढों वाली बेरिकेटिंग सड़क पर बेख़ौफ़ दौड़ा रहे बाइक.

You might also like

पवन दुर्गम, बीजापुर- यहां नेशनल हाइवे से बीजा हल्बा वार्ड क्रमांक 3 को जाने वाली बदहाल सड़क की खबर ट्रैक सीजी ने प्रमुखता से प्रकाशित की थी। खबर प्रकाशन के बाद जिला प्रशासन ने यहां लोगों को हिदायत के साथ बेरिकेटिंग कर दी। बावजूद इसके मदिरा प्रेमी बेरिकेटिंग को धता बताकर बेख़ौफ़ मौत को गले लगाने को आतुर हैं।

बीते दिनों बीजापुर जिले में सामान्य से 180% प्रतिशत ज्यादा बारिश से गांव, कस्बे और नेशनल हाइवे की मजबूत सड़क भी उखड़ गई थी। भारी बारिश और बाढ़ ने नगरपालिका क्षेत्र बीजापुर में भी असर डाला। यहां नेशनल हाइवे 163 से बीजा हल्बा वार्ड क्रमांक 3 को जोड़ने वाली सीसी सड़क कई जगहों पर उखड़ गई, कई जगह सड़क पूरी तरह टूटकर पानी में बह गई और पुलिया के पास सड़क धंस गई जिससे वहां खतरनाक जानलेवा गड्ढा हो गया है।

आज सीजी ट्रैक न्यूज़ पोर्टल में खबर प्रकाशन के बाद जिला प्रशासन ने यहां सड़क पर अवरोधक लगाकर आवाजाही करने वालों को जरूरी हिदायत देते छत्तीसगढ़ पुलिस के बैरिकेट्स लगाए हैं। लोक निर्माण विभाग और नगरपालिका ने साझा प्रयास से अवरोधक लगा दिया।

अवरोधक बनाने के आधे घंटे में मदिरा प्रेमियों ने बेरिकेटिंग के किनारे से चोरी वाला रास्ता बना लिया। देखते ही देखते यहां बेरिकेटिंग से पहले वाली जानलेवा ट्रैफिक शुरू हो गई। बतादें यह सड़क मदिरालय का शॉर्टकट रास्ता है जहां से आसानी से शराब दुकान आया और जाया जाता है। दरअसल मदिरा प्रेमियों में मौत का ख़ौफ़ नही रहा, ” जहां चाह वहां राह” की तर्ज पर मदिरा प्रेमियों ने लोकनिर्माण विभाग और नगरपालिका के बेरिकेटिंग को ठेंगा दिखाते रास्ता बना ही लिया। लोगों की लापरवाही से अब यह सड़क जानलेवा हो गई है। इस सड़क को पूरी तरह से बंद नही किया गया तो बड़ीदुर्घटना का घटित होने शत प्रतिशत तय है।

समस्या की जड़,
स्थानीय वार्डवासियों ने बताया कि अचानक भरी बाढ़ और कई दिनों बाद भी जलस्तर नही उतरने के पीछे खेत मे पुलिया के पास बनाया गया प्रोटेक्शन वॉल और कुछ दूरी पर दूसरे पुलिया को नीचे मिट्टी से बंड बनाया जाना है। किसान ने पुलिया के नीचे मिट्टी से पुलिया को जाम कर दिया गया है जिसकी वजह से पानी अपने प्राकृतिक प्रवाह से भटककर रुक रही है जिसकी वजह से पूरा बखेड़ा खड़ा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Also Read