RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 2:08 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 2:08 AM

अंतागढ़ को जिला बनाने की माँग, 136वें दिन पश्चात् पुनः 5 अगस्त से अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन प्रारंभ

अतिरिक्त कलेक्टर को ज्ञापन सौंपते ग्रामीण

अंतागढ़/ट्रैक सीजी:
ब्रिटिश कालीन अंतागढ़ तहसील को जिला बनाने की मांग पिछले कई दसको से क्षेत्रवासियों द्वारा की जा रही है।

ज्ञात हो अंतागढ़ क्षेत्रवासियों द्वारा 18 अगस्त 2021 से अंतागढ़ को जिला बनाए जाने की माँग को लेकर एक आंदोलन प्रारम्भ किया गया था, जिसमें मैराथन आंदोलन, धरना प्रदर्शन, चक्का जाम तक क्षेत्रवासियों द्वारा किया गया जो कि लगभग 136 दिनों तक अनवरत रूप से चला था, तत्पश्चात् कोरोना को देखते हुए आंदोलन को स्थगित किया गया था, परंतु अब अंतागढ़ क्षेत्रवासीयों द्वारा एक बार फिर से 5 अगस्त से अंतागढ़ को जिला बनाए जाने की माँग को लेकर सर्वसमाज, सर्वदलीय के बैनर तले पुनः शहीद वीर नारायण सिंह चौक पर पंडाल लगाकर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन प्रारंभ किया जा चुका है।

You might also like

आंदोलनकारियों का कहना है कि अंतागढ़ को जिला बनाने की माँग आज या कल की नही है, अंतागढ़ को जिला बनाने हेतु लंबे समय से क्षेत्रवासियों के द्वारा आंदोलन किया जा रहा है साथ ही शासन-प्रशासन को भी विगत एक दशक से अधिक के समय से अवगत कराते रहे हैं, लेकिन आज पूर्व की भाँति आज भी अंतागढ़ उपेक्षित है, इसलिए आज से क्षेत्रवासियों द्वारा अपने हक़ के लिए आरपार की लड़ाई की शुरुआत कर दी गई है साथ ही यह भी कहा कि हमारी लड़ाई आगे भी जारी रहेगी।

क्षेत्र की जनता का कहना है कि अंतागढ़ जिला बन जाता है तो बेहतर तरीके से क्षेत्र का विकास होगा, रोजगार की अपार सम्भावनाये होगी साथ ही जिला बनने पर शिक्षा, स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाएं अंदरूनी ग्रामों तक आसानी से पहुँच पाएगी, इसलिए अंतागढ़ को जिला बनाना चाहिए।

वहीं कुछ ग्रामीणो ने कहा कि अगर अब भी अंतागढ़ को जिले का दर्जा नहीं दिया जायेगा तो क्षेत्रवासी जनांदोलन करने बाध्य होंगे।

बता दें आज क्षेत्रवासियो के द्वारा धरना प्रदर्शन कर जिला बनाए जाने की माँग को लेकर अंतागढ़ एडिशनल कलेक्टर को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौपा गया। इस अवसर पर प्रमुख रूप से बद्री गावडे ,बीर सिंह उसेंडी, विश्राम गावड़े, राकेश गुप्ता, मुकेश ठक्कर, अखिलेश चंदेल, संतराम सलाम, अंकालूराम पवार, माखन सिंह, सोनू साहू, ज्योतिस्वरूप कर्मकार, माखन सिंह, अविनाश गणवीरे, जयंत पानीग्राही, प्रीत राम पटेल, घनश्याम रामटेके, कुलदीप खापर्डे, हेमन्त कश्यप, वीरेंद्र पटेल, विजय साहू, टिकेश्वर जैन, दयाराम दुग्गा, सुकलाल दुग्गा, तरुण रामटेके आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Also Read