RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 30, 2022 3:20 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 30, 2022 3:20 AM

अंतागढ़ को जिला बनाने महाआंदोलन का आगाज: अंतागढ़ को ज़िला बनाने मसीह समाज के सैकड़ो लोगों द्वारा निकाली गई रैली

अंतागढ़/ट्रैक सीजी:
अंतागढ़ को जिला बनाए जाने की माँग अब जन आंदोलन बन चुका है, जिसमें अब हर वर्ग, हर समाज के लोग अपना समर्थन दे रहे हैं।

बता दें आंदोलन को अब मसीह समाज द्वारा भी समर्थन दिया जा रहा है। शहीद वीरनारायण सिंह चौक स्थित धरना स्थल पर सैकड़ों की संख्या में मसीह समाज के लोग पहुंचे, जहां मसीह समाज द्वारा सभा को संबोधित करते हुए सभी के द्वारा एक स्वर में अंतागढ़ को जिला बनाए जाने की मांग की गई। यही नहि अपितु मसीह समाज द्वारा धरना स्थल से लेकर राजीव गांधी चौक तक रैली भी निकाली गई, जिसमें अंतागढ़ को जिला बनाए जाने की माँग को लेकर जमकर नारे भी लगाए गये।

You might also like

तत्पश्चात् भारी गूंज के साथ नारेबाजी करते हुए बस्तर कमिश्नर श्याम धावड़े को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नाम समाज द्वारा ज्ञापन भी सौंपा गया।

•बारिश में निकाली गई रैली:- ज्ञात हो कि रैली के दौरान काफ़ी तेज बारिश भी हो रही थी, किंतु मसीह समाज द्वारा रैली को टाला नहीं गया और भीगते हुए ही बारिश में रैली निकाली गई।

बारिश में निकाली गई रैली

समाज अध्यक्ष जेपी राय ने कहा कि हमारा तहसील अंतागढ़ ब्रिटिश कालीन है, जिसे जिले का दर्जा तो बहुत पहले ही मिल जाना चाहिये था, परंतु ज़िले का दर्जा नहीं मिल पाने और वर्षों से उपेक्षा का शिकार होने की वजह से हम सब क्षेत्रवासियों को पिछले 15 वर्षों से आंदोलन करना पड़ रहा है, और हमारा समाज इसका पूर्ण समर्थन करता है, साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हम मांग करते हैं कि जल्द ही अंतागढ़ को जिले का दर्जा मिले।

समाज के सचिव अर्जुन उसेंडी ने अपने उद्बोधन में कहा कि हमारा क्षेत्र बहुत पिछड़ा हुआ क्षेत्र है जिसमें शासन प्रशासन की पहुंच नहीं है, जिसके चलते हम क्षेत्रवासी विकास की आस लिए अंतागढ़ को जिला बनाने में जुटे हुए हैं, हमारा समाज भी चाहता है कि अंतागढ़ जिला बने और क्षेत्र का विकास हो।

जिला निर्माण समिति के सदस्य संतराम सलाम ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि अंतागढ़ को जिला बनाने की मांग का संघर्ष काफ़ी लम्बा है, क्षेत्रवासियों के द्वारा पिछली बार मैराथन, धरना प्रदर्शन के बाद अंतागढ़ को एडिशनल कलेक्टर और एडिशनल एसपी मिले तो है, लेकिन हमारी मांग अंतागढ़ को स्वतंत्र जिला बनाए जाने की है और हमारी लड़ाई तब ही खत्म होगी जब अंतागढ़ को जिला बनाया जायेगा वरन हमारा संघर्ष जारी रहेगा।

जनपद अध्यक्ष और जिला निर्माण समिति के संरक्षक बद्री गावड़े ने कहा कि अंतागढ़ को जिला बनाने कई दशकों से क्षेत्रवासी सड़क की लड़ाई लड़ रहे है, लेकिन आज तक शासन के द्वारा कोई पहल नहीं की गई है जो अत्यंत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। गावड़े आगे कहते हैं कि अंतागढ़ को जिला बनाने के लिए विगत वर्ष 2021 में लगातार 150 दिन आंदोलन चला था, बावजूद इसके सरकार अंतागढ़ को जिला बनाने की दिशा में कोई निर्णय नहीं ले रहे है, जिसके चलते अब पुनः जनांदोलन की शुरुआत की गई है जिसमें अब आरपार की लड़ाई लड़ी जायेगी।

ज्ञात हो ज्ञापन सौंपने में बस्तर कमिश्नर से शीघ्र ही अंतागढ़ को जिले का दर्जा दिलाए जाने की मांग की गई।

इस अवसर पर जेपी राय मसीह समाज अध्यक्ष, अर्जुन उसेंडी सचिव, धर्मसिंह बघेल, चम्पा मंडावी, नरसू, महेश, मुकेश, सुंदर रामलाल उसेंडी, रामलाल गावड़े सहित बद्री गावडे, बीरसिंह उसेंडी, विश्राम गावड़े, राकेश गुप्ता, मुकेश ठक्कर, अखिलेश चंदेल, संतराम सलाम, माखन सिंह, सोनू साहू, ज्योतिस्वरूप कर्मकार, माखन सिंह, घनश्याम यादव, अनिमेष शर्मा, अविनाश गणवीरे , जयंत पाणीग्राही, प्रीतराम पटेल, घनश्याम रामटेके, कुलदीप खापर्डे, हेमन्त कश्यप, तरुण रामटेके, वीरेंद्र पटेल, विजय साहू, निक्की जैन, टिकेश्वर जैन, दयाराम दुग्गा, सुकलाल दुग्गा व अन्य नागरिक उपस्थित थे।

ज्ञापन सौंपते मसीह समाज सह क्षेत्रवासी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Also Read