RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 30, 2022 1:41 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 30, 2022 1:41 AM

आदिवासी युवती से भाजपा नेत्री द्वारा बर्बरता पर बरसीं कांति नाग

•कांति बोली पीड़िता को इंसाफ दिलाने में सारे भाजपाई क्यों है मौन

•कांति नाग ने दोषी बीजेपी महिला को अविलंब फांसी देने की मांग की

You might also like

अंतागढ़/ट्रैक सीजी:
राज्य योजना आयोग की सदस्य कांति देवी नाग ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि भाजपा आदिवासी विरोधी मानसिकता की पार्टी है, हाल के दिनों में झारखंड में बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ’ के स्टेट कॉर्डिनेटर ने एक आदिवासी बच्ची के साथ अत्याचारी व्यवहार किया है, वह क्षमा योग्य नहीं है।

कांति नाग ने कहा 8 साल तक आदिवासी बेटी के साथ भाजपा नेत्री सीमा पात्रा ने क्रूरता की सारी हदें पार कर दी है । उन्होंने कहा की बीजेपी नेत्री ने पीड़ित आदिवासी लड़की को बंधक बनाकर रखा उसके दांत तोड़ दिए, पेशाब पिलाया, जीभ से टॉयलेट साफ़ करायी, गर्म तवे से बेटी के शरीर को तक जला दिया । उन्होंने कहा की कहाँ है वो लोग जो बेटियों को आगे बढ़ाने की बात कर रहे थे, ऐसे बढ़ेगी बेटी ?

भाजपा नेत्री सीमा पात्रा

उन्होंने आगे कहा कीआख़िर भाजपा के वो लोग कहाँ है, और क्यूँ चुप बैठे हैं जो इस क्रूर महिला के साथ तस्वीरें खींचाकर साथ घूमते थे । क्या भाजपा के लिए दिव्यांग आदिवासी बेटी के साथ किया गया क्रूरता अपराध नहीं है, फिर इस बेटी के लिए इंसाफ़ की आवाज़ क्यूँ नहीं उठाते ।

पीड़ीता (आदिवासी युवती)

नाग ने आगे कहा की इस प्रकार का जघन्य अपराध को करने वाली भाजपा नेत्री को पार्टी ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का प्रदेश संयोजक बनाया था. उन्होंने कहा कि दरअसल आदिवासी भाई-बहनों के प्रति यही भाजपा की असल चाल-चरित्र व चेहरा है ।

•आदिवासी का बेटा या बेटी आगे बढ़े, भाजपा ये बर्दाश्त नहीं कर सकती :- कांति

कांति नाग ने कहा की वे प्रधानमंत्री व गृह मंत्री से मांग करती हैं कि इस मामले में देश के आदिवासियों से माफी मांगें । अमेजन की जंगलों में आग लगने पर ट्विट करने वाले पीएम आदिवासी बेटी की दरिंदगी पर चुप हैं। आदिवासी का बेटा या बेटी आगे बढ़े, भाजपा ये बर्दाश्त नहीं कर पा रही है साथ ही कांति नाग ने झारखंड सरकार से पीड़िता को न्याय दोषियों को अविलंब फांसी एवं पीड़िता के बेहतर इलाज की भी मांग की है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Also Read