RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 30, 2022 3:30 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 30, 2022 3:30 AM

अपनी मांगों को लेकर गायत्री परिवार के सदस्य पहुंचे विधायक कार्यालय

•गायत्री परिवार की मांग पर विधायक ने सौर ऊर्जा से चलित बिजली सह सामुदायिक भवन निर्माण की घोषणा की

•जीवन में अपनी भूमिका को न्यायोचित तरीके से निभाएं नागरिक – नाग

You might also like

अंतागढ़/ट्रैक सीजी:
अंतागढ़ विधायक अनूप नाग से शुक्रवार को उनके शासकीय कार्यालय में अंतागढ़ विकासखंड के गायत्री परिवार ट्रस्ट के सदस्यों ने शिष्टाचार मुलाकात कर ट्रस्ट द्वारा विभिन्न विकास कार्यों की विधायक के समक्ष मांगे रखी। इस दौरान गायत्री ट्रस्ट के सदस्यों ने गायत्री परिवार के रचनात्मक कार्यो की जानकारी विधायक नाग को दी, साथ ही भारतीय संस्कृति पर भी विस्तृत चर्चा हुई ।

विधायक अनूप नाग ने गायत्री परिवार द्वारा की गई हाई सोलर ऊर्जा लाइट और सामुदायिक भवन निर्माण की मांग को सहर्ष स्वीकार कर उनकी मांगों को स्वीकार किया और जल्द ही दोनों मांगो को पूर्ण करने का आश्वासन भी दिया। जिसके पश्चात गायत्री परिवार के सदस्यों ने विधायक नाग का आभार व्यक्त किया ।

विधायक नाग ने इस दौरान कहा कि आज का समय बदल गया है, आज वित्त के साथ नैतिकता को ही देश का विकास मानते है। वर्तमान में देश में गिरती हुई नैतिकता व संस्कारों को वापस लाने में गायत्री परिवार जैसी संस्था का महत्वपूर्ण योगदान है, उन्होंने कहा कि ऐसे बहुत से महापुरुष है जिन्होंने नैतिकता को वापस लाने एक प्रयास शुरू किया, उसी का परिणाम है कि युवा आज समाज में बदलाव के लिए आगे आ रहे है।

नाग ने आगे कहा कि व्यक्ति को धर्म के पीछे भागने की आवश्यकता नहीं है, उसे उसका कार्यक्षेत्र मिल गया है, उसमें कर्म करें और अपनी भूमिका को न्यायोचित तरीके से निभाएं तो धर्म स्वयं ही हमारे पास आता है, अंत में वे कहते हैं कि जीवन को पूरी निष्ठा, न्याय व सत्य के मार्ग में चलते हुए ही बिताना चाहिए।

दूसरों को बदलने के बजाए क्यों न स्वयं को बदले हम- अनूप नाग

पत्रकारों से चर्चा करते हुए विधायक नाग ने कहा कि भारतवर्ष के उत्थान के लिए दूसरों के बजाय स्वयं को बदलने पर जोर देना अधिक उचित है जो गायत्री परिवार सदियों से करता आ रहा है। उन्होंने कहा जो प्रभाव व्यक्ति के चरित्र चिंतना का होता है, वह आध्यात्म से ही होता है, इसलिए अन्यों को बदलने के बजाय शुरुआत स्वयं से करना ही उचित है। उन्होंने कहा कि मैं भी गायत्री परिवार की तरह चाहता हूं कि हर युवा विनम्र बने, नैतिक मूल्यों को समझे, व्यसनों से मुक्त होकर समाज में व्याप्त बुराईयों का अंत करने आगे आए, इस सम्बंध में वे आगे कहते हैं कि अंतागढ़ में बहुत अच्छा कार्य किया जा रहा है, हम जब भी दूसरी जगहों पर जाते है तो हम हमारे क्षेत्र का उदाहरण देते हैं। आने वाले समय में भी राष्ट्र के नवनिर्माण के लिए युवाओं को तैयार करना होगा, और यह नवराष्ट्र निर्माण के लिए अत्यंत आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Also Read