RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 2:36 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 2:36 AM

शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय चैतमा में ओजोन दिवस पर ब्यख्यान कार्यशाला

राष्ट्रीय सेवा योजना के क्षत्रीय निर्देशक एस कबीर, युवा अधिकारी दीपेंद्र उपाध्याय अटल बिहारी वाजपेयी विश्विद्यालय बिलासपुर समन्वयक डॉ मनोज सिन्हा ,जिला संगठन प्रो. वाय के तिवारी, प्राचार्य संरक्षक एच आर निराला के निर्देश पर वीरेंद्र कुमार बंजारे कार्यक्रम अधिकारी ब्यख्याता  जीवविज्ञान ओजोन दिवस ब्यख्यान कार्यशाला पर बताया कि 19 दिसंबर 1964 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने ओजोन परत के संरक्षण के लिए 16 सितंबर को अंतरराष्ट्रीय ओजन दिवस मनाने की घोषणा की. हमें ये समझना होगा कि जितना जरूरी मानव शरीर के ओजोन जरूरी है

You might also like

 लोगों को जागरूक किया जाता है कि ओजोन परत की कैसे सुरक्षा की जा सकती है. इस दिन लोगों को ओजोन परत के प्रति  जागरूक किया जाता है कि ओजोन परत की कैसे सुरक्षा की जा सकती है. हमें ये समझना होगा कि जितना जरूरी मानव शरीर के लिए ऑक्सीजन है, उतनी ही ओजोन परत भी  है |

संयुक्त राष्ट्र और 45 अन्य देशों ने ओजोन परत को खत्म करने वाले पदार्थों पर मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर 16 सितंबर 1987 को हस्ताक्षर किए थे. इसके बाद पहली बार 16 सितबर 1995 को विश्व ओजोन दिवस मनाया गया और इसके बाद से हर साल ये दिन मनाया जाता है.।वी वी शर्मा ब्यख्याता गणित अपने वक्तब्य में बताया कि ऑक्सीजन के तीन अणु (o3) मिलकर ओजोन का निर्माण करते हैं या फिर कह सकते हैं कि ओजाने परत का एक अणु आक्सीजन के तीन अणुओं के जुड़ने से बनता है. ये हल्के नीले रंग की होती हैं. ज्ञात हो की ओजोन की परत धरती से 10 किलोमीटर की ऊंचाई पर शुरू हो जाती है और 50 किलोमीटर ऊपर तक मौजूद रहती है. ये परत सूर्य की घातक किरणों से धरती को प्रोटेक्ट करती है. ये परत मनुष्यों में कैंसर पैदा करने वाली सूरज की पराबैंगनी किरणों को भी रोकने में मदद करती हैं.

नबीउल्ला सिद्दिकी पी टी आई शिक्षक ने बताया कि जरूरत है वाहनों में धुंआ उत्सर्जन रोकने की.रबर और प्लास्टिक के टायर को जलाने पर रोक लगाना है जरूरी है 

ज्यादा से ज्यादा पौधों का रोपण जरूर करें, कु चंद्रमुखी साहू  हेल्थ शिक्षक ने बताया कि पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाने वाले उर्वरक का प्रयोग करें। सुरेन्द्र कुमार नेटी ब्यख्याता  एवं जीवविज्ञान के विद्यार्थियों एवं स्वयं सेवक  ने ओज़ोन दिवस पर चित्रकला, नारा लेखन,निबंध लेखन विभिन्न विद्यार्थियों ने ब्यख्यान में हिस्सा लिया। कु रोशनी, सुमन, सोनिया, अल्का, हिमांशु, तानिया, रोशनी, संदीप, ऋषभ, मुस्कान इत्यादि  पचास से अधिक स्वयं सेवकों विद्यार्थियों ने सहभागिता निभाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Also Read