RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 27, 2022 1:34 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 27, 2022 1:34 AM

छग में पेट्रोल संकट: नाराज ट्रांसपोर्टरों ने की पेट्रोल-डीजल सप्लाई बंद

ट्रैक सीजी/रायपुर:

छत्तीसगढ़ में पेट्रोल की सप्लाई पर संकट गहरा रहा है, पिछले 24 घंटे से 250 पेट्रोल टैंकर के पहिए थमे हुए है। ट्रांसपोर्टरों ने पेट्रोल-डीजल सप्लाई बंद कर दी है। परिवहन लागत बढ़ने के चलते ट्रांसपोर्टरों ने कंपनी से परिवहन दर में 10 प्रतिशत की वृद्धि की मांग की थी, लेकिन पेट्रोल कंपनी ने 30 प्रतिशत परिवहन रेट में कमी कर दी है।  इससे ट्रांसपोर्टरों में ख़ासी नाराजग़ी देखी जा रही है।

You might also like

पेट्रोल सप्लाई करने वाले ट्रांसपोर्टर हड़ताल पर
गौरतलब है कि रायपुर के लखौली से भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड से पूरे प्रदेश में पेट्रोल की सप्लाई की जाती है, लेकिन सोमवार से परिवहन करने वाले ट्रांसपोर्टर हड़ताल पर चले गए है। लखौली में सैकड़ों पेट्रोल टैंकरों का जामवड़ा लगा हुआ है। ट्रांसपोर्टरों का कहना है कि जब तक परिवहन दर में वृद्धि नहीं होगी तब तक पेट्रोल की सप्लाई नहीं होगी, इससे राज्य में पेट्रोल संकट गहरा जाएगा। कुछ दिनों में पेट्रोल पंप में पेट्रोल खत्म होने के बाद यातायात बुरी तरह से प्रभावित हो जाएगी।

दर में कमी से नाराज है ट्रांसपोर्टर
ट्रांस्पोटर एसोसिएशन के ओम प्रकाश गुप्ता ने बताया कि हर 5 वर्ष में परिवहन दर बदलता है, 2022 से 2027 के लिए कंपनी ने 30 प्रतिशत दर घटाकर प्रति किलोमीटर के लिए 2 रुपए 72 पैसे निर्धारित किया है, जो पुराने दर से 30 प्रतिशत कम है। 2017 से 2022 के लिए 3 रुपए 65 पैसे प्रति किलोमीटर के लिए मिलते थे, इसे हमने 4 रुपए करने की कंपनी से मांग की थी परंतु इसके विपरीत 30 प्रतिशत घटा दिया गया है।

900 लोगों के रोजगार पर संकट
ट्रांसपोटिंग दर में कमी करने से नाराज ट्रांसपोर्टर ने 250 पेट्रोल टैंकर से पेट्रोल सप्लाई बंद कर दी है। ओम प्रकाश गुप्ता ने बताया है कि बढ़ती महंगाई के चलते 30 प्रतिशत कम दर में गाड़ी चलाना बहुत मुश्किल है। उन्होंने ट्रांसपोर्टिंग में होने वाले व्यय को एक उदाहरण के रूप में बताया कि रायपुर से रायगढ़ के लिए पेट्रोल सप्लाई पर 8 हजार खर्चा हो रहा है, तो इसमें ट्रांसपोर्टर के 7 हजार रुपए खर्च हो जाते है। इसके अतिरिक्त गाड़ी की किस्त अलग से देनी होती है, ऐसे में कमाई की जगह घर का पैसा लग रहा है। आगे उन्होंने ये भी कहा कि पेट्रोल परिवहन करने वाले 900 लोगों के रोजगार पर संकट आ गया है, सैलरी देने के लिए भी पैसे नहीं बच रहे है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.