RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 1:32 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

October 7, 2022 1:32 AM

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा गौठानों में किया जाएगा बोर खनन

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा गौठानों में किया जाएगा बोर खनन

सीईओ जनपद पंचायतों को प्रस्ताव भेजने के कलेक्टर श्री पी.एस.एल्मा ने दिए निर्देश

You might also like

गोधन न्याय योजना की साप्ताहिक समीक्षा बैठक में

धमतरी/ट्रैक सीजी/एसकुमार साहू
राज्य शासन की महती गोधन न्याय योजना का जिले में सुचारू क्रियान्वयन के मद्देनजर कलेक्टर श्री पी.एस.एल्मा ने कृषि एवं संबंधित विभागों की बैठक ली। आज सुबह 9.30 बजे से आहूत बैठक में उन्होंने सक्रिय गौठानों में गोबर खरीदी, जैविक खाद निर्माण एवं उसका विक्रय, आजीविकामूलक कार्यों तथा अन्य गतिविधियों की समीक्षा की। लोक स्वास्थ्या यांत्रिकी विभाग द्वारा जिले के ऐसे गौठान जहां पानी की व्यवस्था नहीं है, वहां बोर खनन किया जाएगा। कलेक्टर श्री एल्मा ने इसके लिए संबंधित मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत को तत्काल प्रस्ताव तैयार कर भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नियमित गोबर खरीदी से लेकर छनाई, खाद निर्माण और विक्रय के लिए समूहों को प्राथमिकता से काम करने कहें।
बैठक में कलेक्टर ने सामान्य गौठानों के साथ-साथ वन क्षेत्रों में स्थित आवर्ती चराई भूमि में भी गोबर खरीदी एवं अन्य गतिविधियों को नियमित रूप से सक्रिय करने पर बल दिया। उन्होंने विकासखण्डवार गौठानों की समीक्षा करते हुए गोबर खरीदी के अलावा आजीविकामूलक गतिविधियां की जानकारी ली। उन्होंने नगरीय निकायों में गोबर खरीदी का सतत् निरीक्षण करने के निर्देश अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को दिए। कलेक्टर ने बैठक में चारा उत्पादन की जानकारी ली। उप संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं डॉ.एम.एस.बघेल ने बताया कि जिले में अब तक सात हजार 633 क्विंटल चारा उत्पादन किया गया है।
बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती प्रियंका महोबिया ने सक्रिय गौठानों में जी मैप में एंट्री की जानकारी ली तथा मूलभूत संसाधनों का विवेकपूर्ण उपयोग करने कहा। साथ ही उन्होंने ग्रामीण कृषि विकास अधिकारियों और पंचायत सचिवों को समन्वय स्थापित कर काम करने पर जोर दिया। बैठक में उप संचालक कृषि ने बताया कि जिले में कुल 320 सक्रिय गौठान हैं, जिनमें 312 ग्रामीण और 08 शहरी क्षेत्रों में स्थित हैं, जहां अब तक तीन लाख 93 हजार 66 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है। इसमें 72 हजार 360 क्विंटल तैयार वर्मी कम्पोस्ट में से 60 हजार 50 क्विंटल वर्मी खाद यानी 83.62 प्रतिशत वर्मी कम्पोस्ट का विक्रय किसानों को किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Also Read