RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

November 27, 2022 1:44 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

November 27, 2022 1:44 AM

भारतीय स्टेट बैंक लखनपुर द्वारा मृतक व्यक्ति के नाम पर केसीसी ऋण स्वीकृत करने के संबंध में पीड़ित ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

भारतीय स्टेट बैंक लखनपुर द्वारा मृतक व्यक्ति के नाम पर केसीसी ऋण स्वीकृत करने के संबंध में पीड़ित ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

You might also like

खाते में जमा पैसा को वापस दिलाए जाने वाह दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई कराए जाने की मांग

मामला लखनपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत खुटिया का

अंबिकापुर ट्रैक सीजी
छत्तीसगढ़ शासन द्वारा जनता को लाभ पहुंचाने हेतु बैंकों के माध्यम से किसान क्रेडिट कार्ड योजना के तहत लोन स्वीकृत कर योजना का लाभ दिलाया जा रहा है वही कई बैंक शाखाओं में किसान क्रेडिट कार्ड लोन के नाम से भरा शाही व नियम कानून को ताक में रखकर बैंक प्रबंधक द्वारा अवैध वसूली व ग्रामीणों को परेशान करने का भी कार्य किया जा रहा है वीडियो द्वारा कलेक्टर सरगुजा को ज्ञापन सौंपकर न्याय की गुहार लगाई है।
मामला लखनपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत खुटिया निवासी रामचरण पिता स्वर्गीय दखल के नाम पर पैतृक संपत्ति खसरा क्रमांक 302/1,304/2,504,505,82/5,299/2,300/2,301/2,31/2,77,78/1,81/2 कुल 11 प्लाट कुल रकबा 1.738 हेक्टेयर भूमि ग्राम पंचायत खुटिया थाना उदयपुर जिला सरगुजा छत्तीसगढ़ में स्थित है जो वर्तमान में मेरे पिता रामचरण स्वर्गीय दखल के मृत्यु होने के पश्चात रामअवतार पिता रामचरण ,रामसेवक पिता रामचरण के नाम पर नामांतरण हो गया है तथा राम अवतार का कुछ भूमि बिक्री भी हो चुकी है क्रमांक (1) में उल्लेखित भूमि ,भूमिस्वामी रामचरण के नाम पर भूमि के एवज में केसीसी ऋण भारतीय स्टेट बैंक लखनपुर से 20 दिसंबर 2014 से बंधक बता रहा है खसरा के हिसाब से 2021 में भूमि स्वामी राम चरण क्रमांक( 1) के नाम पर 2014 में केसीसी ऋण स्वीकृत होने से पूर्व ही भूमि स्वामी क्रमांक (1) रामचरण पिता स्वर्गीय दखल राम की मृत्यु 2008 में ही हो चुका है (मृत्यु प्रमाण पत्र संलग्न है )मृत्यु होने के बाद भारतीय स्टेट बैंक लखनपुर के द्वारा फर्जी तरीके से केसीसी ऋण स्वीकृत कर बंधक उक्त भूमि भूमि स्वामी रामचरण के 2016 के बी 1 एवं खसरा में बंधक होने का कोई उल्लेख नहीं है साथ ही यह भी है कि भूमि स्वामी रामचरण की मृत्यु के पश्चात जब उत्तराधिकारी अपनी पैतृक संपत्ति का 2016 में नामांतरण के लिए आवेदन किए उस समय भी किसी प्रकार का बंधक का कोई उल्लेख नहीं था| भूमि स्वामी की मृत्यु उपरांत बेटे के नाम पर नामांतरण होने के बाद जब राम अवतार पिता स्वर्गीय राम चरण को अपने बच्चे की इलाज कराने हेतु भूमि का विक्रय हेतु कागज निकलवाया गया तो स्पष्ट हुआ कि जमीन में लोन दिखा रहा है जिसकी जानकारी भारतीय स्टेट बैंक मैनेजर देवेंद्र दुबे से लिया गया तो उनके द्वारा बताया गया कि यह भूमि तो 2014 से केसीसी ऋण के एवज में बंधक है पैसा जमा करने के बाद ही बंधक हटेगा तथा आवेदक रामअवतार द्वारा केसीसी ऋण खाता क्रमांक 34 51 4678 991 पर 18/01/ 2022 को 229111 (दो लाख उन्नीस हजार एक सौ ग्यारह )रुपया जमा किया (पावती संलग्न है) तब जाके जमीन पर लगा बंधक हटाया गया ।
पीड़ित ने बताया कि फर्जी केसीसी ऋण का हमें आभास हुआ तो केसीसी ऋण खाता क्रमांक 34514678991 का स्टेटमेंट भारतीय स्टेट बैंक लखनपुर से निकलवाए तो हमें पता चला कि यह केसीसी ऋण खाता क्रमांक रामचरण ग्राम पंचायत मुटकी पोस्ट जामडीह थाना उदयपुर का निवासी का है (प्रति संलग्न है ।भारतीय स्टेट बैंक लखनपुर द्वारा केसीसी ऋण स्वीकृत करना एवं केसीसी ऋण खाता क्रमांक किसी अन्य व्यक्ति के होने से हमें 229111(दो लाख उनतीस हजार एक सौ ग्यारह) रुपए का आर्थिक नुकसान हुआ है वह मुझे वापस दिलवाए जाने एवं फर्जी दस्तावेज के आधार पर भारतीय स्टेट बैंक लखनपुर के द्वारा फर्जी तरीके से किसी अन्य व्यक्ति के पैतृक भूमि पर बंधक बनाए जाने के कारण काफी आर्थिक नुकसान हुआ है इस को ध्यान में रखते हुए द्वारा फर्जी तरीके से मेरे पूर्वज की भूमि पर चढ़ाई गई फर्जी ऋण को जमा किए गए रुपए को वापस दिलाए जाने के साथ ही संबंधित के खिलाफ पीड़ित राम अवतार ने कार्रवाई करने कलेक्टर सरगुजा से मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Also Read