RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

December 8, 2022 5:30 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

December 8, 2022 5:30 AM

बोर्ड परीक्षा में छात्रों के उत्तीर्ण प्रतिशत में वृद्धि करने हेतु विशेष प्रयास करें-कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला

बोर्ड परीक्षा में छात्रों के उत्तीर्ण प्रतिशत में वृद्धि करने हेतु विशेष प्रयास करें-कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला

You might also like

कांकेर/ ट्रैक सीजी( डॉ रमाशंकर श्रीवास्तव द्वारा ) जिले में संचालित हायर सेकंडरी विद्यालयों के शिक्षा गुणवत्ता में सुधार हेतु हमर लक्ष्य कार्यक्रम के तहत विभिन्न योजनाओं की समीक्षा कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला द्वारा किया गया। उन्होंने बैठक में उपस्थित बीईओ, बीआरसी एवं एबीईओ को निर्देशित करते हुए कहा कि है सभी हाई व हायर सेकंडरी विद्यालयों में बच्चों की दर्ज संख्या के अनुपात में उपस्थिति सुनिश्चित किया जाये। प्रत्येक सप्ताह के शनिवार को कक्षा 9वीं से 12वीं तक के बच्चों का टेस्ट लिया जाये तथा इसकी समीक्षा प्रत्येक माह प्राचार्य द्वारा किया जाना सुनिश्चित करे। प्राचार्यों को सकारात्मक सोच के साथ लक्ष्य तैयार कर कार्य करने हेतु प्रेरित करने के निर्देश दिये। शिक्षकों की समय पर उपस्थिति को ध्यान में रखते हुए उपस्थिति पंजी में आगमन एवं निर्गमन का भी समय अंकित करने हेतु निर्देशित किया गया। जो विद्यार्थी लम्बे समय तक अनुपस्थित हो उनके पालकों के साथ काउंसलिंग कर शिक्षा के मुख्यधारा में जोड़ने हेतु निर्देशित किया गया है। अनुपस्थित छात्रों की नियमित रूप से परीक्षण किया जावे तथा राजीव गांधी युवा मितान क्लब के सदस्यों को शाला त्यागी बच्चों को मुख्यधारा में जोड़ने हेतु निर्देश दिया जावे। भविष्य में जिले के छात्र-छात्राओं को नीट एवं जेईई परीक्षा प्राथमिक, माध्यमिक स्तर पर प्रयास, जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा पीईटी, पीएमटी परीक्षा इत्यादि में सफल होने हेतु विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर प्रस्तुत करने निर्देशित किया गया। उन्होंने कहा कि जिले के सभी प्राचार्यों को निर्देश दे ताकि सभी विद्यालयों के बोर्ड परीक्षा कक्षा 10वीं एवं 12वीं में डी एवं ई ग्रेड के बच्चे अधिक दर्शित हो रहे है उनके लिए उपचारात्मक शिक्षा लागू कर इनका ग्रेडिंग प्रतिशत में वृद्धि करने हेतु निर्देशित किया गया है। इसके अतिरिक्त बी एवं सी ग्रेड के बच्चों को ए ग्रेड में लाने का प्रयास किया जावे।
कक्षा 10वीं एवं 12वीं के बच्चों को प्रोत्साहित कर प्रत्येक हायर सेकेंडरी विद्यालयों में कैरियर गाइडेंस की कक्षा संचालन नियमित रूप से किया जावे। माह के अंतिम शुक्रवार को जिले के समस्त शासकीय विद्यालयों में पालक-बालक सम्मेलन आयोजित करने के निर्देश दिये गये। प्रत्येक बच्चे का प्रतिमाह हेल्थ चेकअप हो सके एवं सामान्य एवं गंभीर बीमारी वाले बच्चों को ईलाज तत्काल किया जा सकें। सभी पाठ्यक्रम को माह 15 दिसम्बर तक अनिवार्य रूप से पूर्ण कराने के निर्देश दिये गये। बच्चों को वार्षिक परीक्षा हेतु माह जनवरी से फरवरी तक स्पेशल फोकस किया जा सके इसके अतिरिक्त कमजोर बच्चों को माह नवम्बर से ही फोकस करना प्रारंभ करने निर्देशित किया गया। अवकाश दिवस में भी रेमेडियल शिक्षण देने वाले व्याख्याताओं को जिला प्रशासन द्वारा प्रशंसा पत्र प्रदान किया जावेगा। मॉनिटरिंग सिस्टम को मजबूत करने के लिए विकासखंड शिक्षा अधिकारी एवं सहायक खंड शिक्षा अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी गई है। हाई एवं हायर सेकेण्डरी विद्यालयों के शिक्षकों की प्रोत्साहित एवं विषयगत प्रशिक्षण माह अगस्त से आयोजित करने हेतु निर्देशित किया गया।
विद्यार्थियों को बोर्ड परीक्षा में अच्छे परिणाम लाने हेतु बेहतर और नियमित रूप से प्रयास करने के निर्देश उनके द्वारा दिये गये है। पालक बालक सम्मेलन को हर्षोल्लास के साथ प्रत्येक माह मनाने के निर्देश दिये गये। प्रत्येक शासकीय विद्यालयों में स्टूडेंट डेली डायरी का संधारण करने तथा उसका मॉनिटरिंग एवं सुरपविजन करने के निर्देश दिये गये। उन्होंने प्रत्येक बच्चों को होमवर्क देने तथा उसे नियमित रूप से जांच करने एवं प्रति दिवस प्राचार्य द्वारा स्टाफ की बैठक कर लक्ष्य निर्धारित करने के निर्देश दिये गये है। कलेक्टर डॉ प्रियंका शुक्ला ने सामूहिक प्रयास पर बल देने हेतु निर्देशित किया गया है। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सुमीत अग्रवाल, जिला शिक्षा अधिकारी श्री भुवन जैन, राजीव गांधी शिक्षा मिशन के समन्वयक आर.पी मिरे, सहा संचालक नवीन सिन्हा, एपीसी समग्र शिक्षा नवनीत पटेल, प्रभारी समग्र शिक्षा दिनेश नाग, पंकज श्रीवास्तव साहित उमेश चंद्राकर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Also Read