RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

December 8, 2022 5:55 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

December 8, 2022 5:55 AM

पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म दिवस है जिसे हम बाल दिवस के रूप में मनातें हैं – टैक सीजी न्‍यूज संभाग प्रमुख महेन्‍द्र श्रीवास्‍तव

*बाल दिवस *
देश में 14 नवंबर एक महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि आज देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म दिवस है जिसे हम बाल दिवस के रूप में मनाते हैं । – महेन्‍द्र श्रीवास्‍तव

पंडित नेहरू विश्व में एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं जिनका नाम बच्चों को बेहद प्यार करने वाले नेता के रूप में लिया जाता है बच्चे उन्हें प्यार से चाचा नेहरू कहते थे । वैसे अंतर्राष्ट्रीय बाल दिवस 20 नवंबर को मनाया जाता है पर हमारे देश में नेहरू जी के बच्चों के प्रति अगाध प्रेम व समर्पण को देखते हुए 1964 में उनकी मृत्यु के बाद उनके सम्मान में उनके जन्मदिन 14 नवम्बर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। नेहरू जी का मानना था बच्चे देश का भविष्य है इसलिए यह जरूरी है कि उन्हें प्यार दिया जाए और उनकी बेहतर देखभाल की जाए जिससे वे अपने पैरों पर खड़े हो सकें तथा देश के अच्छे नागरिक बन सकें।
बच्चों के प्रति उनके सहज प्रेम को इस घटना से परखा जा सकता है। एक बार वे अपने बगीचे में टहल रहे थे कि उन्हें एक बच्चे की रोने की आवाज सुनाई दी वे फौरन वहां पहुंचे , देखा एक सात आठ महीने का बच्चा रो रहा था वह समझ गए कि अवश्य ही किसी माली का बच्चा है जिसे उसकी मां यहां सुलाकर बगीचे ही कहीं काम कर रही है । उन्होंने आसपास देखा पर कोई दिखाई नहीं दिया, बच्चा रो रहा था उनसे रहा नहीं गया और उन्होंने बच्चे को गोद में उठा लिया और उसे चुप कराने की कोशिश करने लगे ।बच्चे के रोने की आवाज उसकी मां तक पहुंच चुकी थी, वह भागी भागी आई और देश के प्रधानमंत्री की गोद में अपने बच्चे को देखकर भौंचक्की रह गई। नेहरू जी ने मां को बच्चा सौंपते हुए कहा बच्चे का ध्यान रखना चाहिए उसे यूं रुलाना नहीं चाहिए.. लो संभालो।
चाचा नेहरू एक बार एक कार्यक्रम में गए थे वहां एक बच्चे ने अपनी डायरी उन्हें दी और कहा कृपया साइन कर दीजिए नेहरू जी ने साइन करके डायरी लौटा दी बच्चे ने देखा और कहा आपने साइन तो कर दिए तारीख तो डाली ही नहीं..
नेहरू जी मुस्कुराए और उन्होंने तारीख डाल दी डायरी देखते ही बच्चा नाराज हो उठा कहने लगा
– यह क्या आपने साइन अंग्रेजी में किए और तारीख उर्दू में डाल दी।
– भाई तुमने साइन अंग्रेजी मांगे थे तारीख उर्दू में … मैंने वैसा ही लिख दिया और हंसने लगे बच्चा भी शरमा गया। आसपास बैठे लोग भी हंसने लगे।
कहा जाता है कि सबसे पहले बाल दिवस तुर्की में मनाया गया था।बाल दिवस केवल भारत में ही नहीं बल्कि विश्व के अधिकांश देशों में मनाया जाता है। भारत में यह 14 नवम्बर को मनाया जाता है लेकिन विश्व के अनेक देशों में इसे मनाने की तारीखें अलग-अलग हैं। हर माह किसी न किसी देश में बाल दिवस का आयोजन होता है। बाल दिवस की शुरूआत वर्ष 1925 से ही हो गई थी लेकिन विश्व स्तर पर इसे 1953 में मान्यता मिली। संयुक्त राष्ट्र द्वारा 20 नवम्बर 1954 को ‘अंतर्राष्ट्रीय बाल दिवस’ मनाए जाने की घोषणा की गई थी, जिसका उद्देश्य यही था कि इस विशेष दिन के माध्यम से अलग-अलग देशों के बच्चे एक-दूसरे के साथ जुड़ सकें, जिससे उनके बीच आपसी समझ तथा एकता की भावना मजबूत हो सके। संसार में बाल दिवस के माध्यम से लोगों को बच्चों के स्वास्थ्य, शिक्षा, बाल मजदूरी इत्यादि बच्चों के अधिकारों के प्रति जागरूक करने का प्रयास किया जाता है।
सर्वप्रथम बाल दिवस जेनेवा के इंटरनेशनल यूनियन फॉर चाइल्ड वेलफेयर के सहयोग से विश्वभर में अक्टूबर1953 में मनाया गया था। विश्व भर में बाल दिवस मनाए जाने का विचार भारत के तत्कालीन रक्षामन्त्री वी.के.कृष्ण मेनन का था, जिसे संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 1954 में अपनाया गया था। संयुक्त राष्ट्र द्वारा विश्व भर के तमाम देशों से अपील की गई थी कि वे अपनी परम्पराओं, संस्कृति तथा धर्म के अनुसार अपने लिए कोई एक ऐसा दिन सुनिश्चित करें, जो सिर्फ बच्चों को ही समर्पित हो।अपनी-अपनी सहूलियत के आधार पर विभिन्न देशों द्वारा अलग-अलग तारीखों पर बाल दिवस मनाया जाता है ।
जनवरी में बहामास और थाईलैंड में,फरवरी में म्यांमार, मार्च में न्यूजीलैंड, बांग्लादेश, अप्रैल में हांगकांग, फिलीस्तीन बोलिविया, तुर्की और मेक्सिको, मई में दक्षिण कोरिया तथा जापान, नार्वे, नाईजीरिया और हंगरी, जून में चीन सहित कई देशों में बाल संरक्षण दिवस के रूप में, जुलाई में पाकिस्तान, क्यूबा, पनामा, वेनेजुएला, इंडोनेशिया, अगस्त में उरुग्वे, पैराग्वे,अर्जेन्टीना तथा पेरू, सितम्बर कोस्टा रीका, नेपाल,आस्ट्रिया तथा जर्मनी और नीदरलैंड, अक्टूबर मे श्रीलंका, चिली, सिंगापुर, ईरान, ब्राजील, मलेशिया, आस्ट्रेलिया, नवम्बर में भारत,दक्षिण अफ्रीका तथा अंतर्राष्टीय दिवस 20 नवम्बर को अजरबैजान, कनाडा, मिस्र, इथियोपिया, फिनलैंड, फ्रांस, यूनान, आयरलैंड, इजराइल, केन्या, मैसिडोनिया, नीदरलैंड, फिलीपींस, दक्षिण अफ्रीका, स्पेन, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, संयुक्त अरब अमीरात, त्रिनिदाद व टोबेगो, दिसम्बर में सूरीनाम, सूडान , कांगो गणराज्य, कैमरून तथा भूमध्यरेखीय गिनी में बाल दिवस का आयोजन किया जाता है।
विभिन्न दिनों पर बाल दिवस मनाए जाने का मूल उद्देश्य यही है कि इसके जरिये लोगों को बच्चों के अधिकारों तथा सुरक्षा के लिए जागरूक किया जा सके।

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Also Read