RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

December 8, 2022 5:56 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

December 8, 2022 5:56 AM

शासकीय सीनियर आदिवासी उत्कृष्ट कन्या छात्रावास का मैदान अतिक्रमण की चपेट में छात्राओं को हो रही परेशानी – टैक सी जी न्‍यूज  संभाग प्रमुख महेन्‍द्र श्रीवास्‍तव

शासकीय सीनियर आदिवासी उत्कृष्ट कन्या छात्रावास का
मैदान अतिक्रमण की चपेट में छात्राओं को हो रही परेशानी – टैक सी जी न्‍यूज  संभाग प्रमुख महेन्‍द्र श्रीवास्‍तव

अनूपपुर । शिक्षा का मंदिर भी अतिक्रमणकारियों की चपेट में आ जाने से छात्राओं के लिए मुसीबत खड़ी हो गई अधीक्षक शासकीय सीनियर आदिवासी उत्कृष्ट कन्या छात्रावास ने कलेक्टर सहायक आयुक्त सहित नगरपालिका अधिकारी को शिकायती पत्र भेजकर कन्या छात्रावास के सामने से अतिक्रमण हटाने की मांग की है उन्होंने अपने शिकायती पत्र में लेख किया है कि अमरकंटक रोड़ चंदास नदी के पास शासकीय सीनियर आदिवासी उत्कृष्ट कन्या छात्रावास भवन संचालित है।छात्रावास में 50 आदिवासी छात्रायें निवासरत होकर अपनी पढ़ाई कर रही है,शासन द्वारा उक्त छात्रावास के सामने पानी हेतु एक हैण्डपंप की व्यवस्थ्या किया गया है एवं बच्चियों के लिए खेल मैदान भी आरक्षित था।जो संस्था के आधिपत्य में है किन्तु कुछ व्यक्तियों के द्वारा छात्रावास के सामने, पूरे मैदान में झुग्गी-झोपड़ी बनाकर अतिक्रमण कर लिए है।इस कारण छात्रावास में रह रही छात्राओं को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है-हैण्डपंप का उपयोग सभी अतिक्रमण कारी व्यक्तियों द्वारा किया जाता है विशेष परिस्थिती में संस्था को आवश्यकता होती है,तो घंटो खड़ा रहना पड़ता है यदि कुछ कहा जाये तो लड़ाई-झगड़े में उतारू हो जाते है,तथा रात दिन शोर-शराबा होता रहता है।
कभी-कभी नशे की हालत में जोर-जोर से इतनी अभद्र बाते करते है कि संस्था तक स्पष्ट सुनाई पड़ता है जिसका प्रभाव छात्राओं में भी पड़ता है।झुग्गी-झोपड़ी बनाकर रहने के साथ-साथ संस्था के सामने गंदगी भी करते है तथा यह मैदान शासकीय है,जहां पूर्व में छात्राओं के खेलने के लिए आरक्षित था जो पूर्णतः अतिक्रमण कर लिया गया है।
अधीक्षक शासकीय सीनियर आदिवासी उत्कृष्ट कन्या छात्रावास ने कलेक्टर सहायक आयुक्त एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी से अपील की है कि मौके की जांच कर अतिशीघ्र अतिक्रमण हटवाये जाने की महती कृपा करें ताकि कभी कोई अप्रिय घटना न हो एवं छात्राएं सुरक्षित रह सकें।

You might also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Also Read