RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 27, 2022 1:49 AM

RNI - NO : CHHHIN/2015/65786

September 27, 2022 1:49 AM

मध्यप्रदेश में नगरी य निकायों में भाजपा का टूटा घमंड ट्रैक सीजी न्यूज़ अनूपपुर संभाग प्रमुख महेंद्र श्रीवास्तव

You might also like

प्रदेश में नगरीयनिकाय चुनावों की घोषणा लगभग लगभग हो चुकी है चुनाव में मध्य प्रदेश की 16 नगर निगमों में से 16:00 पर भारतीय जनता पार्टी ने कब्जा किया था मगर 2022 की चुनाव परिणामों ने सबको चौका दिया जब बीजेपी की 16 की बढ़त नव में सिमट गई तथा बचे हुए 7 महापौर में से पांच में कांग्रेस ने कब्जा किया तो वही एक आम आदमी पार्टी के खाते में गई और एक अन्य निर्दलीय के खाते में गई जिसके बाद से जनता केवल बीजेपी को चाहती है यह कहना बीजेपी का भ्रम जाल टूट गया भारतीय जनता पार्टी के लिए यह चिंता का विषय होगा कि आखिर 7 साल बाद आखिर यह स्वास्थ्य कैसे चुप गई मगर 2015 में हुए चुनाव के बाद अब 7 सालों बाद 2022 में चुनाव हुआ ऐसे में यह लगने लगा कि आने वाले 9 सालों बाद भाजपा मध्य प्रदेश की तमाम नगर सरकार पूरी तरह से कमा देगी सोचने का विषय है कि इन 7 सालों में ऐसा क्या हुआ कि भारतीय जनता पार्टी को अपनी सीटें गंवानी पड़ी वर्ष 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में विंध्य क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी की अपार जनसंपर्क मिला जिसके कारण भारतीय जनता पार्टी के 25 विधायक जीते मगर 2022 में हुए इस नगर निकाय के चुनाव में इन 25 विधायकों ने विंध्य क्षेत्र की सतना सिंगरौली और रीवा तीन नगर निगमों से केवल एक नगर निगम भाजपा की झोली में डाली है ऐसे में तमाम विधायकों की कार्यप्रणाली और उनकी लोकप्रियता पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं विंध्य क्षेत्र के कद्दावर नेता विधायक राजेंद्र शुक्ला पर भी सवाल उठना जायजहै सिंगरौली जिले में चुनाव के प्रभारी रहे पूर्व मंत्री व रीवा विधायक राजेंद्र चौक पर भी अब सवाल खड़े होने लगे हैं क्योंकि पहला तो वह चुनाव प्रभारी रहते हुए सिंगरौली नगर निगम में भाजपा के प्रत्याशी को जिताने में नाकामयाब रहे दूसरा रीवा नगर निगम में उनके चहेते कैंडिडेट को टिकट दी गई परंतु यहां भी उनके द्वारा किए गए विकास कार्यों को जनता ने नकार दिया ऐसे में अब विधायक राजेंद्र शुक्ला की लोकप्रियता भी एकमात्र सतना नगर निगम की दखलंदाजी नहीं थी वहां पर भाजपा की जीत मिली है ऐसे में आस लगाए जा रहे हैं आने वाले चुनाव में भाजपा का संकट गहरा होता जा रहा है

Leave a Reply

Your email address will not be published.